Google Chrome निजता नोटिस

पिछला बदलाव: 20 मई, 2020

जब आप अपने कंप्यूटर या मोबाइल डिवाइस, Chrome OS पर Google Chrome ब्राउज़र का इस्तेमाल करते हैं, और जब आप Chrome में सुरक्षित ब्राउज़िंग चालू करते हैं तब जो जानकारी सेव, स्टोर, और शेयर की जाती है उस पर नियंत्रण करने का तरीका सीखें. हालांकि यह नीति Chrome के लिए खास सुविधाओं का ब्यौरा देती है, Google को दी जाने वाली या आपके Google खाते में सेव की जाने वाली जानकारी का इस्तेमाल और उसकी सुरक्षा Google निजता नीति के मुताबिक की जाएगी, जिसे समय-समय पर बदला जाता है. Google की निजी डेटा के रखरखाव की नीति ब्यौरा देती है कि Google डेटा को किस तरीके से और क्यों रखता है.

अगर आपके Chromebook पर Google Play ऐप्लिकेशन चालू किया गया है, तो Google Play या Android ऑपरेटिंग सिस्टम की ओर से इकट्ठी की गई जानकारी का इस्तेमाल और उसकी सुरक्षा Google Play सेवा की शर्तों और Google निजता नीति के हिसाब से की जाती है. इस नोटिस में जहां ज़रूरत हो वहां Chrome के लिए खास जानकारियां दी गई हैं.

निजता नोटिस के बारे में जानकारी

इस निजता नोटिस में, हम "Chrome" शब्द का इस्तेमाल ऊपर सूचीबद्ध Chrome परिवार के सभी उत्पादों को बताने के लिए करते हैं. अगर उत्पादों के बीच हमारी नीति में कोई अंतर हो, तो हम उनके बारे में बताएंगे. हम समय-समय पर इस निजता नोटिस में बदलाव करते हैं.

Chrome के "बीटा," "डेव" या "कैनरी" वर्शन में आप Chrome में अभी बन रही नई सुविधाएं आज़माकर देख सकते हैं. यह निजता नोटिस Chrome के सभी वर्शन पर लागू है, लेकिन हो सकता है कि वह अभी बन रही सुविधाओं के लिए अप टू डेट न हो.

अपनी निजता प्राथमिकताओं का प्रबंधन करने से जुड़े सिलसिलेवार निर्देशों के लिए, Chrome के निजता नियंत्रणों की यह खास जानकारी पढ़ें.

विषय सूची:

ब्राउज़र मोड

आपको Chrome का इस्तेमाल करने के लिए कोई भी निजी जानकारी देने की ज़रूरत नहीं है, लेकिन Chrome में ऐसे अलग-अलग मोड हैं जिनका इस्तेमाल आप अपने ब्राउज़िंग अनुभव को बदलने या बेहतर बनाने के लिए कर सकते हैं.

बुनियादी ब्राउज़र मोड

मूल ब्राउज़र मोड आपके सिस्टम पर स्थानीय रूप से जानकारी को सेव करता है. इस जानकारी में यह शामिल हो सकता है:

  • ब्राउज़िंग इतिहास की जानकारी. उदाहरण के लिए, Chrome उन पेजों के यूआरएल जिन पर आप जाते हैं, टेक्स्ट का कैश, इमेज और उन पेजों के दूसरे संसाधनों को सेव करता है, और, अगर नेटवर्क कार्रवाई पूर्वानुमान सुविधा चालू की गई है, तो उन पेजों से लिंक किए गए कुछ आईपी पतों की एक सूची सेव करता है.

  • व्यक्तिगत जानकारी और पासवर्ड, ताकि आपको फ़ॉर्म भरने या उन साइट में साइन इन करने में मदद मिले जिन पर आप जाते हैं.

  • आपने वेबसाइटों को जो अनुमतियां दी हैं उनकी सूची.

  • कुकी या उन वेबसाइटों का डेटा जिन पर आप जाते हैं.

  • ऐड-ऑन के ज़रिए सेव किया गया डेटा.

  • आपने वेबसाइट से जो सामग्री डाउनलोड की है उसका रिकॉर्ड.

आप इस जानकारी को कई तरीकों से प्रबंधित कर सकते हैं:

Chrome की ओर से स्टोर की जाने वाली निजी जानकारी Google को तब तक नहीं भेजी जाएगी जब तक कि आप सिंक चालू करके उस डेटा को अपने Google खाते में या किसी खास भुगतान कार्ड और बिलिंग जानकारी को अपने Google पेमेंट्स खाते में स्टोर करने का विकल्प नहीं चुनते हैं. ज़्यादा जानें.

Chrome आपकी जानकारी किस तरह प्रबंधित करता है

वेबसाइट ऑपरेटर के लिए जानकारी. आप Chrome का इस्तेमाल करके जिन साइटों पर जाते हैं, उन्हें अपने आप आपसे जुड़ी सामान्य लॉग जानकारी मिल जाती है. इस जानकारी में आपके सिस्टम का आईपी पता और कुकी का डेटा शामिल होता है. आम तौर पर जब आप Gmail जैसी Google सेवाएं एक्सेस करने के लिए Chrome का इस्तेमाल करते हैं, तो Google को आपके बारे में अलग से कोई ऐसी जानकारी नहीं मिलती जिससे आपकी पहचान ज़ाहिर हो. Google वेबसाइटों और ऑप्ट इन करने वाली दूसरी वेबसाइटों पर, अगर Chrome को पता चलता है कि नेटवर्क पर कोई और है जो आप पर सक्रिय रूप से हमला कर रहा है (कोई "मैन इन द मिडिल अटैक"), तो Chrome उस कनेक्शन की जानकारी Google को या आपकी देखी गई वेबसाइट को भेज सकता है ताकि पता लगाया जा सके कि हमला कितना बड़ा है और वह किस तरीके से किया गया है. Google भाग लेने वाले वेबसाइट मालिकों को उनकी साइटों पर होने वाले हमलों की रिपोर्ट भेजता है.

पहले से रेंडरिंग. तेज़ी से वेब पेज लोड करने के लिए, Chrome में एक सेटिंग है जो किसी वेब पेज पर लिंक के आईपी पतों को खोज सकती है और नेटवर्क कनेक्शन खोल सकती है. साइटें और Android ऐप्लिकेशन ब्राउज़र को उन पेजों को पहले से लोड करने के लिए कह सकती हैं जिन पर आप अगली बार जा सकते हैं. Android ऐप्लिकेशन के पहले से लोड करने के अनुरोधों का नियंत्रण वही सेटिंग करती है जो Chrome-से चालू किए गए पूर्वानुमानों की सेटिंग करती है. अगर पहले से रेंडरिंग का अनुरोध किया गया है, चाहे Chrome या किसी साइट या ऐप्लिकेशन से, तो पहले से लोड की गई साइट को अपनी ख़ुद की कुकी सेट करने और पढ़ने की मंज़ूरी उसी तरह होती है जैसे आप उस पर गए थे, भले ही आप आखिर में पहले से रेंडर किए गए पेज पर न जाएं. ज़्यादा जानें.

जगह की जानकारी. भौगोलिक तौर पर ज़्यादा प्रासंगिक जानकारी पाने के लिए, Chrome आपको किसी साइट से अपनी जगह की जानकारी शेयर करने का विकल्प देता है. Chrome किसी साइट को आपकी अनुमति के बिना आपकी जगह की जानकारी एक्सेस नहीं करने देगा; हालांकि, मोबाइल डिवाइस पर, अगर Chrome ऐप्लिकेशन को आपकी जगह की जानकारी एक्सेस करने की अनुमति मिली हुई है और आपने संबंधित वेबसाइट के लिए भौगोलिक स्थान को ब्लॉक नहीं किया है, तो Chrome आपकी जगह की जानकारी आपके डिफ़ॉल्ट सर्च इंजन के साथ अपने आप शेयर करेगा. आपकी जगह का अंदाज़ा लगाने के लिए, Chrome, Google की जगह की जानकारी देने वाली सेवाओं का इस्तेमाल करता है. Chrome, Google की जगह की जानकारी देने वाली सेवाओं को जाे जानकारी भेजता है उनमें ये चीज़ें शामिल हो सकती हैं:

  • आपके सबसे पास वाले वाई-फ़ाई राउटर
  • आपके सबसे नज़दीक मौजूद सेल टॉवर के सेल आईडी
  • आपके वाई-फ़ाई या सेल सिग्नल की शक्ति
  • आपके डिवाइस को फ़िलहाल असाइन किया गया आईपी पता

Google का तीसरे पक्ष की वेबसाइट या उनकी निजता लागू करने की प्रक्रियाओं पर नियंत्रण नहीं होता, इसलिए किसी वेबसाइट के साथ अपना स्थान शेयर करते समय सावधानी बरतें.

अपडेट. Chrome अपडेट देखने, कनेक्टिविटी स्थिति पाने, मौजूदा समय की पुष्टि करने और सक्रिय उपयोगकर्ताओं की संख्या का अंदाज़ा लगाने के लिए समय-समय पर Google को जानकारी भेजता है.

खोज की सुविधाएं. अगर आपने किसी Google साइट में साइन इन किया हुआ है और Google आपका डिफ़ॉल्ट सर्च इंजन है, तो आपकी खोज की जानकारी आपके Google खाते में सेव हो जाएगी. इसमें वे खोज शामिल हैं जो आप Chrome के नए टैब पर खोज वाली पट्टी या खोज बॉक्स में करते हैं.

{}खोज पूर्वानुमान सेवा.{} तेज़ी से जानकारी ढूंढने में आपकी मदद के लिए, Chrome आपके डिफ़ॉल्ट खोज इंजन की पूर्वानुमान सेवा का इस्तेमाल करता है. इसकी मदद से आपके लिखे जा रहे टेक्स्ट को पूरा करने वाले संभावित सुझाव दिए जाते हैं. जब आप Chrome में नए टैब पर खोज वाली पट्टी या खोज बॉक्स का इस्तेमाल करके कुछ खोजते हैं, तो आप जो वर्ण टाइप करते हैं (भले ही, आपने तब तक "Enter" बटन नहीं दबाया हो) उसे आपके डिफ़ॉल्ट सर्च इंजन को भेज दिया जाता है. अगर Google आपका डिफ़ॉल्ट सर्च इंजन है, तो पूर्वानुमान आपके अपने खोज इतिहास, नए टैब की खोज वाली पट्टी या खोज बॉक्स में टाइप किए जा रहे विषय, और दूसरे लोग क्या खोज रहे हैं इस पर आधारित होते हैं. ज़्यादा जानें. पूर्वानुमान आपके ब्राउज़िंग इतिहास पर भी आधारित हो सकते हैं. ज़्यादा जानें.

नेविगेट करने से जुड़ी सहायता. जब आप किसी वेब पेज से कनेक्ट नहीं कर पाते हैं, तो आपको उसी पेज से मिलते-जुलते दूसरे पेजों के सुझाव मिल सकते हैं जिस तक आप पहुँचना चाहते हैं. आपको सुझाव देने के लिए, Google पर वह यूआरएल खोजें जिस तक आप पहुँचना चाहते हैं.

अपने आप भरने की सुविधा (ऑटो फ़िल) और पासवर्ड प्रबंधन. Chrome की 'ऑटो फ़िल' यानी अपने आप जानकारी भरने की सुविधा और 'पासवर्ड प्रबंधन' की सेवा को बेहतर बनाने के लिए, Chrome आपको मिलने वाले या आपके सबमिट किए गए वेब फ़ॉर्म के बारे में Google को कुछ जानकारी भेजता है. इस जानकारी में आपकी पहचान छिपाई जाती है. साथ ही यह जानकारी सिर्फ़ तब शेयर की जाती है, जब ऑटो फ़िल या पासवर्ड प्रबंधन चालू हों. Google के साथ शेयर की जाने वाली इस जानकारी में वेब पेज का हैश किया गया यूआरएल और फ़ॉर्म के स्ट्रक्चर से जुड़ी जानकारी शामिल होती है. ज़्यादा जानें.

Payments. जब आप Google खाते से Chrome में साइन इन किए हुए होते हैं, तो Chrome आपको अपने भुगतान कार्ड और उनसे जुड़ी बिलिंग जानकारी को Google पेमेंट्स खाते में सेव करने का विकल्प दे सकता है. Chrome आपके Google पेमेंट्स खाते से भुगतान कार्ड की जानकारी को सीधे वेब फ़ॉर्म में भरने का विकल्प भी दे सकता है. अगर आपने कार्ड को सिर्फ़ Chrome में सेव कर रखा है, तो Chrome आपको उन कार्ड को अपने Google पेमेंट्स खाते में सेव करने की सलाह दे सकता है. अगर आप अपने Google पेमेंट्स खाते से किसी भुगतान कार्ड का इस्तेमाल करते हैं या बाद में इस्तेमाल के लिए अपने Google पेमेंट्स खाते में कोई भुगतान कार्ड सेव करते हैं, तो Chrome आपके कंप्यूटर के बारे में जानकारी जमा करके उसे Google Pay के साथ शेयर करेगा ताकि उस कार्ड से जुड़ी सेवा देने के साथ-साथ, आपको धोखाधड़ी से भी बचाया जा सके. अगर कोई कारोबार यह सुविधा दे, तो Chrome आपको Google Pay के ज़रिए भुगतान भी करने देगा.

भाषा. आप जिन भाषाओं में पढ़ना पसंद करते हैं उनके आधार पर आपके ब्राउज़िंग अनुभव को आपकी पसंद के मुताबिक बनाने के लिए, आप जिन साइटों पर जाते हैं, Chrome उनकी सबसे लोकप्रिय भाषाओं की संख्या अपने पास रखेगा. Chrome में आपके अनुभव को आपकी पसंद के मुताबिक बनाने के लिए, भाषा की पसंद की यह जानकारी Google को भेजी जाएगी. अगर आपने 'Chrome सिंक' चालू किया हुआ है, तो इस भाषा प्रोफ़ाइल को आपके Google खाते से जोड़ दिया जाएगा. इसके साथ ही, अगर आप अपनी Google वेब और ऐप्लिकेशन गतिविधि में Chrome का इतिहास शामिल करते हैं, तो उसका इस्तेमाल दूसरे Google उत्पादों में आपके अनुभव को आपके मनमुताबिक बनाने के लिए किया जा सकता है. गतिविधि नियंत्रण देखें.

Android पर वेब ऐप्लिकेशन. Android डिवाइस पर, अगर आप किसी ऐसी वेबसाइट के लिए "होम स्क्रीन में जोड़ें" चुनते हैं, जिसे मोबाइल डिवाइस पर तेज़ और भरोसेमंद परफ़ॉर्मेंस के लिए ऑप्टिमाइज़ किया गया है, फिर Chrome किसी Google सर्वर का इस्तेमाल करके आपके डिवाइस पर उस वेबसाइट के लिए एक स्थानीय Android पैकेज बनाएगा. Android पैकेज की मदद से आप वेब ऐप्लिकेशन से उसी तरह इंटरैक्ट कर सकते हैं, जिस तरह आप किसी Android ऐप्लिकेशन के साथ करते. उदाहरण के लिए, वेब ऐप्लिकेशन आपकी इंस्टॉल किए हुए ऐप्लिकेशन की सूची में दिखाई देगा. ज़्यादा जानें

इस्तेमाल के आंकड़े और खराबी रिपोर्ट. डिफ़ॉल्ट रूप से, डिवाइस की खराबी रिपोर्ट और इस्तेमाल के आंकड़े Google को भेजे जाते हैं. इसका मकसद हमारे उत्पादों को बेहतर बनाने में मदद करना है. इस्तेमाल के आंकड़ों में, प्राथमिकताएं, बटन पर किए गए क्लिक, परफ़ॉर्मेंस के आंकड़े, और मेमोरी के इस्तेमाल जैसी जानकारी होती है. आम तौर पर, इस्तेमाल के आंकड़ों में वेब पेज यूआरएल या निजी जानकारी शामिल नहीं होती. हालांकि, अगर आपने "खोज और ब्राउज़िंग को बेहतर बनाएं / जिन पेजाें पर आप जाते हैं उनके यूआरएल Google काे भेजें" चालू किया है, तो Chrome के इस्तेमाल के आंकड़ाें में यह जानकारी शामिल होती है कि आप किन वेब पेजों पर जाते हैं और किस तरह से उनका इस्तेमाल करते हैं. अगर आप 'Chrome सिंक' को चालू करते हैं, तो Chrome आपके Google खाते में बताई गई उम्र और लिंग की जानकारी को हमारे आंकड़ों के साथ जोड़ सकता है. इससे हमें उम्र, लिंग, आय, शिक्षा वगैरह के हिसाब से बेहतर उत्पाद बनाने में मदद मिलती है. उदाहरण के लिए, हम धीमी गति से लोड होने वाले वेब पेजों की पहचान करने के लिए आंकड़े इकट्ठा कर सकते हैं. हम इस जानकारी का इस्तेमाल अपने उत्पादों और सेवाओं को बेहतर बनाने के लिए करते हैं. साथ ही, इसका इस्तेमाल वेब डेवलपर को अहम जानकारी देने के लिए भी किया जाता है, ताकि वे अपने पेजों में सुधार कर सकें. खराबी रिपोर्ट में, डिवाइस बंद होने के समय की सिस्टम की जानकारी होती है. साथ ही, इसमें वेब पेज के यूआरएल या निजी जानकारी भी शामिल हो सकती है. ऐसा इस आधार पर होता है कि जब खराबी रिपोर्ट बनाई गई थी उस समय क्या हो रहा था. हम निजी पहचान ज़ाहिर नहीं करने वाली उस जानकारी को सार्वजनिक रूप से शेयर कर सकते हैं जिसे हमने इकट्ठा किया है. इस जानकारी को हम अपने पार्टनर के साथ भी शेयर कर सकते हैं. इन पार्टनर में प्रकाशक, विज्ञापन देने वाले या वेब डेवलपर जैसे लोग शामिल हैं. आप जब चाहें, यह सेटिंग बदल सकते हैं कि इस्तेमाल के आंकड़े और खराबी रिपोर्ट Google को भेजी जाएं या नहीं. ज़्यादा जानें. अगर आपके Chromebook पर Google Play ऐप्लिकेशन चालू किए गए हैं और Chrome के इस्तेमाल के आंकड़े देखने की सुविधा चालू है, तो Android की गड़बड़ी की जानकारी और इसके इस्तेमाल का डेटा भी Google को भेजा जाता है.

Licences multimédias. Certains sites Web chiffrent les contenus multimédias pour se protéger contre les accès et les copies non autorisés. Pour les sites HTML5, cet échange de clés s'effectue à l'aide de l'API Encrypted Media Extensions. Pendant l'opération ouvrant l'accès à ces fichiers multimédias, des identifiants de session et de licences peuvent être enregistrés localement. L'utilisateur peut supprimer ces identifiants dans Chrome en sélectionnant Effacer les données de navigation avec l'option "Cookies et autres données de site" activée. Pour les sites utilisant Adobe Flash Access, Chrome fournit un identifiant unique aux partenaires de contenu et aux sites Web. Cet identifiant est stocké sur votre système. Vous pouvez refuser cet accès dans les paramètres en sélectionnant "Paramètres de contenu" et "Contenu protégé", puis réinitialiser l'identifiant en sélectionnant Effacer les données de navigation avec l'option "Cookies et autres données de site" activée. Si vous accédez à du contenu protégé dans Chrome sur Android, ou si vous accédez à un contenu de meilleure qualité ou hors connexion sur Chrome OS, un fournisseur de contenu peut exiger un certificat pour vérifier l'éligibilité de l'appareil. Votre appareil partage avec le site Web un identifiant propre au site afin de certifier que ses clés de chiffrement sont protégées par le matériel Chrome. En savoir plus

दूसरी Google सेवाएं. यह नोटिस उन Google सेवाओं का वर्णन देता है जो Chrome में डिफ़ॉल्ट रूप से चालू की जाती हैं. साथ ही, Chrome दूसरी Google वेब सेवाओं की पेशकश भी कर सकता है. उदाहरण के लिए, अगर आपको कोई दूसरी भाषा का पेज मिलता है, तो Chrome अनुवाद के लिए टेक्स्ट को Google को भेजने की पेशकश करेगा. जब आप पहली बार इन सेवाओं का इस्तेमाल करेंगे तो आपको उन्हें नियंत्रित करने के विकल्पों की सूचना दी जाएगी. आपको Chrome निजता श्वेतपत्र में ज़्यादा जानकारी मिल सकती है.

Chrome में पहचानकर्ता

Chrome में, सुविधाओं और काम करने वाली सेवाओं को चलाते रहने के लिए ज़रूरी कई खास और सामान्य पहचानकर्ता शामिल होते हैं. उदाहरण के लिए, अगर आप पुश मैसेज का इस्तेमाल करते हैं, तो एक पहचानकर्ता बनाया जाता है ताकि आपको नोटिस डिलीवर किया जा सके. जहां मुमकिन हो, वहां हम सामान्य पहचानकर्ताओं का इस्तेमाल करते हैं और जब उनकी ज़रूरत न हो तो पहचानकर्ताओं को हटा देते हैं. साथ ही, ये पहचानकर्ता Chrome को विकसित करने, वितरित करने, और उसका प्रचार करने में हमारी मदद करते हैं, लेकिन सीधे Chrome सुविधा से जुड़े हुए नहीं हैं.

  • इंस्टॉलेशन ट्रैकिंग. Chrome ब्राउज़र के Windows डेस्कटॉप वर्शन की हर एक कॉपी में सीमित समय के लि‍ए बीच-बीच से जनरेट किया गया एक इंस्टॉलेशन नंबर होता है, जिसे उस समय Google को भेजा जाता है जब आप Chrome का पहली बार इस्तेमाल करते हैं. कुछ समय के लिए बने इस पहचानकर्ता की मदद से हम इंस्टॉल किए गए ब्राउज़र की संख्या का अंदाज़ा लगा पाते हैं और Chrome के पहली बार अपडेट होते ही इसे मिटा दिया जाएगा. Chrome के मोबाइल वर्शन में Chrome के इंस्टॉलेशन की संख्या ट्रैक करने के लिए डिवाइस पहचानकर्ता के एक प्रकार का लगातार आधार पर इस्तेमाल किया जाता है.

  • strong>प्रचार ट्रैकिंग. प्रचार कैंपेन की कामयाबी को ट्रैक करने में हमारी मदद के लिए, Chrome एक खास टोकन जनरेट करता है जिसे Google को तब भेजा जाता है जब आप पहली बार ब्राउज़र चलाते और इस्तेमाल करते हैं. साथ ही, अगर आपको प्रचार कैंपेन के हिस्से के तौर पर Chrome के डेस्कटॉप वर्शन की कॉपी मिली है या आपने उसे फिर से चालू किया है और Google आपका डिफ़ॉल्ट सर्च इंजन है, तो फिर खोज वाली पट्टी की खोजों में एक सामान्य प्रचार टैग शामिल होगा. Chrome ब्राउज़र के सभी मोबाइल वर्शन में खोज वाली पट्टी की खोजों के साथ एक सामान्य प्रचार टैग भी शामिल होगा. Chrome OS समय-समय पर (शुरुआती सेटअप के दौरान भी) और Google के साथ खोज करते समय Google को एक सामान्य प्रचार टैग भेज सकता है. ज़्यादा जानें.

  • फ़ील्ड ट्रायल. कभी-कभी हम नई सुविधाओं के सीमित टेस्ट करते हैं. Chrome में एक सीड नंबर होता है, जिसे प्रयोग समूहों को ब्राउज़र असाइन करने के लिए पहली बार चलाए जाने पर बीच-बीच में से चुना जाता है. प्रयोगों को देश (जिसका पता आपके आईपी पते से लगाया जाता है), ऑपरेटिंग सिस्टम, Chrome वर्शन और दूसरे पैरामीटर के ज़रिए सीमित भी किया जा सकता है. Chrome के आपके इंस्टॉलेशन पर इस समय चालू फ़ील्ड ट्रायल की एक सूची Google को भेजे गए सभी अनुरोधों में शामिल की जाती है. ज़्यादा जानें.

साइन-इन करें और Chrome को सिंक करें मोड

आप सिंक चालू करके या उसके बिना भी, अपने Google खाते में साइन इन रहते हुए Chrome ब्राउज़र का इस्तेमाल कर सकते हैं.

डेस्कटॉप पर साइन इन करें. Chrome के डेस्कटॉप वर्शन पर, google.com जैसी किसी भी Google वेब सेवा में साइन इन करने या उससे साइन आउट करने पर आप Chrome में भी साइन इन या उससे साइन आउट हो जाते हैं. आप सेटिंग में जाकर इसे बंद कर सकते हैं. ज़्यादा जानें. अगर आप डेस्कटॉप पर अपने Google खाते में साइन इन किए हुए हैं, तो Chrome आपको अपने भुगतान कार्ड और उनसे जुड़ी बिलिंग जानकारी को Google पेमेंट्स खाते में सेव करने का विकल्प दे सकता है. इस निजी जानकारी का इस्तेमाल और इसकी सुरक्षा Google की निजता नीति के मुताबिक की जाएगी.

सिंक करें. जब आप Chrome ब्राउज़र या Chromebook में साइन इन करते हैं और अपने Google खाते से सिंक चालू करते हैं, तो Google के सर्वर पर आपके Google खाते में आपकी निजी जानकारी सेव कर ली जाती है ताकि आप दूसरे कंप्यूटर और डिवाइस पर साइन इन करते समय और Chrome से सिंक करते समय इसे एक्सेस कर सकें. इस निजी जानकारी का इस्तेमाल और इसकी सुरक्षा Google की निजता नीति के मुताबिक की जाएगी. इस तरह की जानकारी में ये चीज़ें शामिल हो सकती हैं:

  • ब्राउज़िंग इतिहास
  • बुकमार्क
  • टैब
  • पासवर्ड और अपने आप भरने की सुविधा (ऑटो फ़िल) की जानकारी
  • दूसरी ब्राउज़िंग सेटिंग, जैसे कि इंस्टॉल किए गए एक्सटेंशन

सिंक सिर्फ़ तब चालू होता है, जब आप उसे चालू करना चाहते हैं. ज़्यादा जानें. सिंक की जाने वाली खास जानकारी को पसंद के मुताबिक बनाने के लिए, "सेटिंग" मेन्यू का इस्तेमाल करें. ज़्यादा जानें. आपके Google खाते के लिए कितना Chrome डेटा सेव किया गया है, इसे देखने और डेटा को प्रबंधित करने के लिए आप Chrome सिंक डैशबोर्ड के डेटा पर जा सकते हैं. डैशबोर्ड पर, Family Link के ज़रिए बनाए गए Google खातों के अलावा बाकी खातों के लिए, आप सिंक को बंद कर सकते हैं और उनसे जुड़ा सारा डेटा Google के सर्वर से मिटा भी सकते हैं. ज़्यादा जानें. Family Link में बनाए गए Google खातों के लिए साइन-इन करना ज़रूरी है. साथ ही उनके लिए सिंक को बंद नहीं किया जा सकता क्योंकि उनका प्रबंधन अभिभावकों के हाथ में होता है और उन्हें वेबसाइट पर पाबंदियों जैसी सुविधाएं मिली होती हैं. हालांकि, Family Link खातों वाले बच्चे अभी भी अपना डेटा मिटा सकते हैं और ज़्यादातर तरह के डेटा को सिंक करने की सुविधा बंद भी कर सकते हैं. ज़्यादा जानें. Family Link में बनाए गए Google खातों के लिए निजता सूचना उन खातों में स्टोर किए गए Chrome सिंक डेटा पर लागू होती है.

Chrome आपकी सिंक की गई जानकारी को कैसे प्रबंधित करता है

जब आप अपने Google खाते से सिंक चालू करते हैं, तो हम Chrome में आपको बेहतर अनुभव देने और उसे आपके मनमुताबिक बनाने के लिए आपके ब्राउज़िंग डेटा का इस्तेमाल करते हैं. आप Chrome इतिहास को अपनी Google वेब और ऐप्लिकेशन गतिविधि में शामिल किए जाने की मंज़ूरी देकर दूसरे Google उत्पादों पर भी मनमुताबिक अनुभव पा सकते हैं. ज़्यादा जानें.

आप जब चाहें इस सेटिंग को अपने खाता इतिहास पेज पर जाकर बदल सकते हैं या अपना निजी डेटा प्रबंधित कर सकते हैं. अगर आप Chrome के अलावा दूसरी जगहों पर अपना Google अनुभव मनमुताबिक बनाने के लिए अपने Chrome डेटा का इस्तेमाल नहीं करते हैं, तो Google आपके Chrome डेटा का इस्तेमाल सिर्फ़ तब करता है, जब उसे दूसरे लोगों के डेटा के साथ जमा किया जाता है और उसमें आपकी पहचान छिपाकर रखी जाती है. Google इस डेटा का इस्तेमाल नई सुविधाओं, उत्पादों, और सेवाओं की खोज करने के साथ-साथ मौजूदा उत्पादों और सेवाओं को बेहतर बनाने में भी करता है. अगर आप अपने Chrome डेटा को सेव और सिंक करने के लिए Google के क्लाउड का इस्तेमाल करना चाहते हैं, लेकिन आप नहीं चाहते कि Google वह डेटा एक्सेस करे, तो आप खुद के सिंक करने के लंबे पासवर्ड की मदद से अपना सिंक किया गया Chrome डेटा सुरक्षित कर सकते हैं. ज़्यादा जानें.

गुप्त मोड और मेहमान मोड

गुप्त मोड या मेहमान मोड का इस्तेमाल करके आप उस जानकारी को सीमित कर सकते हैं जिसे Chrome आपके सिस्टम पर सेव करता है. इन मोड में, Chrome कुछ खास जानकारी को सेव नहीं करता, जैसे:

  • आप जिन वेबसाइट पर जाते हैं उनसे लिंक किए गए पेजों के यूआरएल, कैश किए गए पेज के टेक्स्ट या आईपी पतों जैसी बुनियादी ब्राउज़िंग जानकारी
  • आपके विज़िट किए जाने वाले पेजों के स्नैपशॉट
  • आपके डाउनलोड के रिकॉर्ड, वैसे आपकी डाउनलोड की जाने वाली फ़ाइलें अभी भी आपके कंप्यूटर या डिवाइस पर कहीं और सेव की जाएंगी

Chrome आपकी गुप्त या मेहमान जानकारी किस तरह प्रबंधित करता है

कुकी. आप गुप्त या मेहमान मोड में जिन साइटों पर जाते हैं, Chrome उनके साथ मौजूदा कुकी शेयर नहीं करेगा. इन मोड में होने पर, साइटें आपके सिस्टम पर नई कुकी जमा कर सकती हैं, लेकिन उन्हें तभी तक सेव और ट्रांसमिट किया जाएगा, जब तक कि आप गुप्त या मेहमान विंडो को बंद नहीं कर देते.

ब्राउज़र कॉन्फ़िगरेशन में बदलाव. जब आप ब्राउज़र कॉन्फ़िगरेशन में वेब पेज को बुकमार्क करने या अपनी सेटिंग बदलने जैसे बदलाव करते हैं, तब यह जानकारी सेव कर ली जाती है. गुप्त या मेहमान मोड की वजह से इन बदलावों पर कोई असर नहीं पड़ता.

अनुमतियां. गुप्त मोड में आपकी दी गई अनुमतियां आपकी मौजूदा प्रोफ़ाइल में सेव नहीं की जाती हैं.

प्रोफ़ाइल जानकारी. गुप्त मोड में, आपके पास अभी भी अपनी मौजूदा प्रोफ़ाइल की जानकारी का एक्सेस होगा, जैसे जब आप ब्राउज़िंग कर रहे हों, तब आपके ब्राउज़िंग इतिहास और सेव किए गए पासवर्ड पर आधारित सुझाव. मेहमान मोड में, आप किसी भी मौजूदा प्रोफ़ाइल की जानकारी को देखे बिना ब्राउज़ कर सकते हैं.

Chrome में उपयोगकर्ताओं को प्रबंधित करना

व्यक्तिगत Chrome उपयोग के लिए उपयोगकर्ताओं को प्रबंधित करना

आप एक ही डिवाइस या कंप्यूटर शेयर कर रहे उपयोगकर्ताओं के लिए Chrome के मनमुताबिक बनाए गए वर्शन सेट कर सकते हैं. ध्यान रखें कि आपके डिवाइस पर एक्सेस रखने वाला कोई भी व्यक्ति सभी प्रोफ़ाइल की सारी जानकारी देख सकता है. अपने डेटा को दूसरे व्यक्तियों के देखे जाने से सचमुच सुरक्षित रखने के लिए, अपने ऑपरेटिंग सिस्टम में पहले से मौजूद उपयोगकर्ता खातों का इस्तेमाल करें. ज़्यादा जानें.

Enterprise के लिए Chrome पर उपयोगकर्ताओं को प्रबंधित करना

कुछ Chrome ब्राउज़र या Chromebook को किसी स्कूल या कंपनी की ओर से प्रबंधित किया जाता है. ऐसे मामले में, एडमिन उस ब्राउज़र या Chromebook पर नीतियां लागू कर सकता है. जब कोई उपयोगकर्ता पहली बार ब्राउज़ करना ('मेहमान मोड' के अलावा) शुरू करता है, तो Chrome इन नीतियों की जांच करने के लिए Google से संपर्क करता है. Chrome समय-समय पर नीतियों में अपडेट की जांच करता रहता है.

एडमिन, Chrome के लिए स्थिति और गतिविधि रिपोर्टिंग के लिए नीति तय कर सकता है, जिसमें Chrome OS डिवाइस के लिए स्थान जानकारी शामिल है. आपके एडमिन आपके प्रबंधित डिवाइस से एक्सेस किया गया डेटा एक्सेस कर सकते हैं, उसकी निगरानी कर सकते हैं, इस्तेमाल कर सकते हैं या उसे उजागर भी कर सकते हैं.

सुरक्षित ब्राउज़िंग के तरीके

Google Chrome और कुछ तीसरे पक्ष के ब्राउज़र, जैसे Mozilla Firefox और Apple के Safari के कुछ वर्शन में Google की सुरक्षित ब्राउज़िंग सुुविधा शामिल है. सुरक्षित ब्राउज़िंग में, संदिग्ध वेबसाइटों की जानकारी आपके इस्तेमाल किए जा रहे ब्राउज़र और Google के सर्वरों के बीच भेजी जाती है और ली जाती है.

सुरक्षित ब्राउज़िंग कैसे काम करती है

सबसे हाल ही की "सुरक्षित ब्राउज़िंग" सूची डाउनलोड करने के लिए आपका ब्राउज़र Google के सर्वर से संपर्क करता है, जिसमें फ़िशिंग और मैलवेयर साइट की जानकारी होती है. सूची की सबसे ताज़ा कॉपी आपके सिस्टम पर स्थानीय रूप से सेव की जाती है. Google इस संपर्क के हिस्से के रूप में कोई भी खाता जानकारी या दूसरी व्यक्तिगत पहचान करने वाली जानकारी को इकट्ठा नहीं करता. हालांकि, वह मानक लॉग जानकारी हासिल करता है, जिसमें आईपी पता और कुकी शामिल हैं.

आप जिस भी साइट पर जाते हैं उसे आपके सिस्टम पर सुरक्षित ब्राउज़िंग सूची के बरक्स जाँचा जाता है. अगर कोई मिलान मिलता है, तो आपका ब्राउज़र Google को साइट के यूआरएल की एक हैश की गई, आंशिक कॉपी भेजता है ताकि Google आपके ब्राउज़र को ज़्यादा जानकारी भेज सके. Google इस जानकारी से असली यूआरएल तय नहीं कर सकता. ज़्यादा जानें.

नीचे दी गई सुरक्षित ब्राउज़िंग सुविधाएं खास तौर से Chrome के लिए हैं:

  • अगर आपने सुरक्षित ब्राउज़िंग के बेहतर सुरक्षा वाले मोड को चालू कर दिया है, तो Chrome अब आपके खाते को ज़्यादा सुरक्षा देगा और Google को पहले से ज़्यादा डेटा भेजेगा. इस डेटा में क्या शामिल होगा, इसके बारे में Chrome की सेटिंग में बताया गया है. ज़्यादा जानें. अपनी-अपनी सेटिंग के हिसाब से, इनमें से कुछ सुरक्षा सुविधाएं एक अलग सुविधा के तौर पर भी उपलब्ध हो सकती हैं. ऐसा तब होता है, जब मानक सुरक्षा की सुविधा चालू हो.

  • अगर आपने "खोज और ब्राउज़िंग को बेहतर बनाएं / जिन पेजाें पर आप जाते हैं उनके यूआरएल Google काे भेजें” को चालू किया हुआ है और सुरक्षित ब्राउज़िंग की सुविधा भी चालू है, तो Chrome हर उस साइट का पूरा यूआरएल Google को भेजेगा जिस पर आप गए हैं. इससे यह तय किया जा सकेगा कि वह साइट सुरक्षित है या नहीं. अगर आप अपने ब्राउज़िंग इतिहास को भी बिना लंबे पासवर्ड के सिंक करते हैं, तो ये यूआरएल कुछ समय के लिए आपके Google खाते से जुड़े रहेंगे. इस तरह ये आपके खाते के मुताबिक बेहतर सुरक्षा दे पाएंगे. यह सुविधा गुप्त मोड और मेहमान मोड में काम नहीं करती.

  • Chrome के कुछ वर्शन में सुरक्षित ब्राउज़िंग तकनीक शामिल है जो संभावित रूप से नुकसान पहुंचाने वाली साइटें और संभावित रूप से खतरनाक फ़ाइल प्रकारों की पहचान करती है जिनके बारे में Google को पहले से पता नहीं होता. साइट का पूरा URL या खतरनाक हो सकने वाली फ़ाइल को Google को यह तय करने के लिए भेजा जा सकता है कि साइट या फ़ाइल नुकसान पहुंचाने वाली है या नहीं.

  • Chrome समय-समय पर आपके कंप्यूटर को स्कैन करने के लिए सुरक्षित ब्राउज़िंग तकनीक का इस्तेमाल करता है, ताकि उस अनचाहे सॉफ़्टवेयर का पता लगाया जा सके जो आपको अपनी सेटिंग बदलने से रोकता है या किसी दूसरे तरीके से आपके ब्राउज़र की सुरक्षा और स्थिरता से छेड़खानी करता है. ज़्यादा जानें. अगर ऐसे सॉफ़्टवेयर का पता चलता है, तो Chrome उसे हटाने के लिए आपको Chrome से हानिकारक सॉफ़्टवेयर हटाने का टूल डाउनलोड करने का विकल्प दे सकता है.

  • जब आप किसी ऐसी साइट को एक्सेस करते हैं जिसमें लगता है कि मैलवेयर है या जब Chrome को आपके कंप्यूटर पर किसी अनचाहे सॉफ़्टवेयर का पता चले, तब सुरक्षित ब्राउज़िंग को बेहतर बनाने में मदद करने के लिए आप अतिरिक्त डेटा भेज सकते हैं. ज़्यादा जानें.

  • अगर आप Chrome के पासवर्ड मैनेजर का इस्तेमाल करते हैं, तो आपके आप सेव किए हुए पासवर्ड असामान्य पेज पर डाले जाने पर, 'सुरक्षित ब्राउज़िंग' Google से उसकी पुष्टि करता है. इससे आपको फ़िशिंग हमलों से बचाने में मदद मिलती है. इस सुरक्षा के लिए Chrome आपके पासवर्ड Google को नहीं भेजता. साथ ही, 'सुरक्षित ब्राउज़िंग' आपके Google खाते के पासवर्ड की सुरक्षा करती है. अगर आप उसे किसी ऐसी साइट पर डालते हैं जो फ़िशिंग कर सकती है, तो Chrome आपसे Google खाते का पासवर्ड बदलने के लिए कहेगा. अगर आप अपना ब्राउज़िंग इतिहास सिंक करते हैं या आप Google खाते में साइन इन हैं और Google को सूचना देने का विकल्प चुना हुआ है, तो Chrome आपके Google खाते को भी संभावित तौर पर फ़िश किए गए खाते के रूप में फ़्लैग करेगा.

  • अगर आपने Google खाते में साइन इन किया हुआ है, तो Chrome आपको असुरक्षित क्रेडेंशियल इस्तेमाल करने पर भी चेतावनी देगा. जैसे जब आप ऐसे उपयोगकर्ता नाम और पासवर्ड का इस्तेमाल करेंगे जो डेटा का गलत इस्तेमाल करके, बिना अनुमति के सार्वजनिक किए गए हों. इसकी जांच करने के लिए, आपके किसी साइट में साइन इन करने पर, Chrome आपके उपयोगकर्ता नाम और सुरक्षित की गई दूसरी जानकारी का आंशिक हैश Google को भेजता है. इसके बदले में, Google उन संभावित ज्ञात मिलानों की एक सूची भेजता है जो डेटा के किसी गलत इस्तेमाल में शामिल रहे हैं. इस सूची का इस्तेमाल करके Chrome यह तय करता है कि आपका उपयोगकर्ता नाम और पासवर्ड बिना अनुमति के सार्वजनिक किए गए हैं या नहीं. इस प्रक्रिया में Google को आपका उपयोगकर्ता नाम या पासवर्ड नहीं पता चलता. Google को यह भी पता नहीं चलता कि वे बिना अनुमति के सार्वजनिक किए गए हैं या नहीं. इस सुविधा को Chrome की सेटिंग में जाकर बंद किया जा सकता है. ज़्यादा जानें.

  • Chrome के डेस्कटॉप और Android वर्शन में, आप Chrome की सेटिंग में जाकर, जब चाहें सुरक्षित ब्राउज़िंग की सुविधा को बंद कर सकते हैं. Chrome के iOS वर्शन में, आपके डिवाइस पर इस्तेमाल होने वाली सुरक्षित ब्राउज़िंग की तकनीक पर Apple का नियंत्रण होता है. वह Google के अलावा, सुरक्षित ब्राउज़िंग की सेवा देने वाली दूसरी कंपनियों को भी आपका डेटा भेज सकता है.

ऐप्लिकेशन, एक्सटेंशन, थीम, सेवाओं और दूसरे ऐड-ऑन की निजता लागू करने की प्रक्रियाएं

आप Chrome के साथ ऐप्लिकेशन, एक्सटेंशन, थीम, सेवाएं और दूसरे ऐड-ऑन इस्तेमाल कर सकते हैं, जिनमें Chrome के साथ पहले से इंस्टॉल किए गए या इंटीग्रेट किए गए भी शामिल हो सकते हैं. जो ऐड-ऑन Google ने बनाए और मुहैया कराए हैं, वे Google सर्वर से संचार कर सकते हैं और Google निजता नीति पर निर्भर होते हैं जब तक कि अलग से बताया न गया हो. दूसरों के बनाए और मुहैया कराए गए ऐड-ऑन की जिम्मेदारी ऐड-ऑन बनाने वालों की है और उनकी निजता नीतियां अलग हो सकती हैं.

ऐड-ऑन प्रबंधित करना

किसी ऐड-ऑन को इंस्टॉल करने से पहले, आपको अनुरोध की गई अनुमतियों की समीक्षा करनी चाहिए. ऐड-ऑन को कई तरह की चीज़ें करने की अनुमति हो सकती है, जैसे:

  • स्थानीय रूप से या आपके Google डिस्क खाते में सेव किए गए डेटा को सेव करना, एक्सेस करना और उसे शेयर करना
  • आप जिन वेबसाइटों पर जाते हैं उनकी सामग्री देखें और एक्सेस करें
  • Google सर्वर के जरिये भेजे जाने वाली सूचना का इस्तेमाल करें

Chrome कुछ अलग-अलग तरीकों से ऐड-ऑन से इंटरैक्शन कर सकता है:

  • अपडेट का पता लगाया जा रहा है
  • अपडेट डाउनलोड करना और इंस्टॉल करना
  • Google को ऐड-ऑन के बारे में इस्तेमाल के दिखाई देने वाले संकेत भेजना

कुछ ऐड-ऑन को डिजिटल अधिकार प्रबंधन या पुश मैसेज डिलीवर के लिए एक खास पहचानकर्ता एक्‍सेस की ज़रूरत हो सकती है. आप Chrome से ऐड-ऑन हटाकर पहचानकर्ताओं का इस्तेमाल बंद कर सकते हैं.

समय-समय पर, Google को ऐसा कोई ऐड-ऑन मिल सकता है जो सुरक्षा के लिए खतरा पैदा करता हो, Chrome वेब स्टोर के लिए डेवलपर की शर्तों का उल्लंघन करता हो, या दूसरे कानूनी समझौतों, कानूनों, विनियमों, या नीतियों का उल्लंघन करता हो. Chrome समय-समय पर इन खतरनाक ऐड-ऑन की सूची डाउनलोड करता है, ताकि उन्हें दूर से ही बंद किया जा सके या आपके सिस्टम से हटाया जा सके.

सर्वर लॉग निजता जानकारी

जब आप हमारी साइटों पर आते हैं, तो ज़्यादातर वेबसाइटों की तरह हमारे सर्वर भी किए गए पेज अनुरोधों को अपने आप रिकॉर्ड करते हैं. इन "सर्वर लॉग" में आमतौर पर आपका वेब अनुरोध, इंटरनेट प्रोटोकॉल पता, ब्राउज़र प्रकार, ब्राउज़र की भाषा, आपके अनुरोध की तारीख और समय के साथ ही आपके ब्राउज़र की अलग तरीके से पहचान कर सकने वाली एक या ज़्यादा कुकी शामिल होती हैं.

यहां ऐसी आम लॉग एंट्री का उदाहरण दिया गया है जहां "कार" की खोज ऐसी दिखाई देती है, जिसके बाद उसके हिस्सों का विश्लेषण होता है:

123.45.67.89 - 25/Mar/2003 10:15:32 - https://www.google.com/search?q=cars - Firefox 1.0.7; Windows NT 5.1 - 740674ce2123e969

  • 123.45.67.89 उपयोगकर्ता को इंटरनेट सेवा देने वाली कंपनी (ISP) की तरफ़ से उपयोगकर्ता को असाइन किया गया इंटरनेट प्रोटोकॉल पता है. D; उपयोगकर्ता की सेवा पर निर्भर करते हुए, उपयोगकर्ता जब भी इंटरनेट से कनेक्ट करेंगे, तब उसे सेवा देने वाली कंपनी एक अलग पता असाइन कर सकती है.;
  • 25/Mar/2003 10:15:32 क्वेरी की तारीख और उसका समय है.;
  • https://www.google.com/search?q=cars अनुरोध किया गया यूआरएल है, जिसमें खोज क्वेरी शामिल है.;
  • Firefox 1.0.7; Windows NT 5.1 इस्तेमाल किया जा रहा ब्राउज़र और ऑपरेटिंग सिस्टम है.;
  • 740674ce2123a969 इस खास कंप्यूटर को असाइन की गई वह खास कुकी आईडी है, जो पहली बार किसी Google साइट पर जाने पर इसे असाइन किया गया था. (उपयोगकर्ता कुकी मिटा सकते हैं. अगर उपयोगकर्ता ने पिछली बार Google पर अपनी विज़िट के बाद से कंप्यूटर से कुकी मिटा दी है, तो वह अगली बार उसी कंप्यूटर से Google पर विज़िट करने पर उसे असाइन किया गया खास कुकी आईडी होगा).

ज़्यादा जानकारी

जब आप Chrome का इस्तेमाल करते हैं तब Google जो जानकारी हासिल करता है उसका इस्तेमाल और सुरक्षा Google निजता नीति के तहत किया जाता है. दूसरे वेबसाइट ऑपरेटर और ऐड-ऑन डेवलपर कुकी सहित जो जानकारी हासिल करते हैं, वह उन वेबसाइटों की निजता नीतियों पर निर्भर होती है.

Google, डेटा ट्रांसफ़र से जुड़े कुछ कानूनी फ़्रेमवर्क का पालन करता है, जैसे कि ईयू (यूरोपीय संघ)-अमेरिका और Swiss-U.S. Privacy Shield (स्विस–अमेरिका Privacy Shield) फ़्रेमवर्क. Learn more.

प्रमुख शब्द

कुकी

कुकी एक छोटी फ़ाइल होती है जिसमें वर्णों की एक शृंखला होती है जो आपके किसी वेबसाइट पर जाने पर आपके कंप्यूटर को भेजी जाती है. जब आप साइट पर फिर से जाते हैं, तो वह साइट कुकी से आपके ब्राउज़र की पहचान कर लेती है. कुकी इस्तेमाल करने वाले की प्राथमिकताओं और दूसरी जानकारी सेव कर सकती है. आप अपने ब्राउज़र को सभी कुकी नामंज़ूर करने के लिए या जब कोई कुकी भेजी जाती है तो उसका संकेत देने के लिए कॉन्फ़िगर कर सकते हैं. हालांकि, हो सकता है कि कुछ वेबसाइट सुविधाएं या सेवाएं कुकी के बिना ठीक तरीके से काम न करें. Google के कुकी का इस्तेमाल करने के तरीके और कुकी सहित, Google के डेटा इस्तेमाल करने के तरीके के बारे में ज़्यादा जानें, जब आप हमारे साझेदार की साइट या ऐप्लिकेशन का इस्तेमाल करते हैं.

Google खाता

आप एक Google खाते के लिए साइन अप करके और हमें कुछ व्यक्तिगत जानकारी (आम तौर पर आपका नाम, ईमेल पता और पासवर्ड) देकर हमारी कुछ सेवाओं को एक्सेस कर सकते हैं. जब आप Google सेवाओं को एक्सेस करते हैं, तो इस खाता जानकारी का इस्तेमाल आपको प्रमाणित करने और आपके खाते को दूसरों के अनधिकृत एक्सेस से सुरक्षित रखने के लिए किया जाता है. आप किसी भी समय Google खाता सेटिंग के जरिए अपने खाते में बदलाव कर सकते हैं या उसे मिटा सकते हैं.